crossorigin="anonymous"> (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});


Right to Nap: ऑफिस में काम के वक्त अक्सर आंखें बोझिल होने लगती हैं. इसके बावजूद भी कर्मचारियों को नींद भगाकर काम जुट जाना होता है. कर्मचारियों की इस समस्या पर गहनता से विचार करने और स्टडी करने के बाद एक भारतीय स्टार्टअप कंपनी ने इस समस्या का हल निकाल लिया है. आइये आपको बताते हैं कंपनी ने कर्मचारियों को राहत देने का क्या जुगाड़ निकाला है.

स्टार्ट-अप ने कर्मचारियों को दी राहत

प्रोडक्टिविटी बढ़ाने के लिए थोड़ी सी झपकी (Power Nap) के साथ शरीर को तरोताजा कौन नहीं करना चाहेगा? शिफ्ट के दौरान, बेंगलुरु के एक स्टार्ट-अप ने आधिकारिक तौर पर अपने कर्मचारियों के लिए 30 मिनट की झपकी का समय देने का ऐलान किया है.

कर्मचारियों को मिलेगा ‘राइट टू नैप’

वेकफिट सॉल्यूशंस (Wakefit Solutions) ने एक ट्वीट में ‘राइट टू नैप’ (Right to Nap) के बारे में बताते हुए दो तस्वीरें शेयर कीं और बताया कि कर्मचारी कब झपकी ले सकते हैं. वेकफिट के को-फाउंडर चैतन्य रामलिंगगौड़ा ने पोस्ट के अनुसार, हाल ही में सहकर्मियों को एक ईमेल जारी कर उन्हें बताया गया कि वे अब दोपहर 2 से 2.30 बजे के बीच थोड़ी सी नींद ले सकते हैं.

33% तक बढ़ सकती है परफार्मेंस

उन्होंने एक ईमेल में लिखा, ‘हम छह साल से अधिक समय से नींद उद्योग में हैं और अभी तक आराम के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक का सम्मान करना बाकी है- दोपहर की झपकी. हमने हमेशा झपकी को गंभीरता से लिया है, लेकिन आज से, हम इसको बढ़ावा देने जा रहे हैं’. उन्होंने कहा, ‘नासा की एक स्टडी में पाया गया कि 26 मिनट का कैटनैप आपके काम के परफार्मेंस को 33% तक बढ़ा सकता है, जबकि हार्वर्ड की एक स्टडी में पाया गया कि झपकी लेने से बर्नआउट को रोकने में मदद मिल सकती है.’

जानें कंपनी की तैयारियों के बारे में

कंपनी ने ट्विटर पर यह भी कहा कि कर्मचारी हर दिन दोपहर 2:00 से 2:30 बजे के बीच 30 मिनट की झपकी ले सकेंगे और यह समय सभी के कैलेंडर पर आधिकारिक नैप टाइम के रूप में सेट किया जाएगा. कंपनी ने यह भी उल्लेख किया कि वे कर्मचारियों के लिए आदर्श झपकी वातावरण बनाने के लिए कार्यालय में आरामदायक स्लीप पॉड्स और शांत स्थान तैयार करने पर काम कर रहे हैं.

LIVE TV

.



Source link

crossorigin="anonymous"> (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here